Tuesday, November 10, 2015

अंधेरे को हमेशा दिल से हटाती रहना
इस दीवाली से तू, रोज मुस्काती रहना
रोक लूँगा हर आँधीं को आने से तुझ तक
सदा दीपक की तरह, तू जगमगाती रहना

मुश्किल होता है

यादों को भुलाना
मुश्किल तो होता है
अनजानों को प्यार देना
मुश्किल तो होता है

काफ़ी अरसे के बाद
सामने वो आयें तो
मुस्कुरा के गम छुपाना
मुश्किल तो होता है

आसानी से नही भूल सकते
जिन्हें जगह दी हो दिल में
दिल को समझना
मुश्किल तो होता है

भारी महफ़िल मे कोई
अचानक से याद आ जाए
फिर आँसू छुपाना
मुश्किल तो होता है

हर पल परवाह करने वाला
अचानक से दूर हो जाए
दिल को यकीन दिलाना
मुश्किल तो होता है

आज तरसते हैं एक
प्यार भरी नज़र के लिये
बेहिसाब प्यार देने वालों
का हिसाब चुकाना
मुश्किल तो होता है 

Thursday, May 28, 2015

"मैं " , " वो " , और एक " वो "

जिंदगी में कई बार हम उनके पीछे भागते हैं 
जो  किसी और के पीछे भागते हैं
और कोई हमारे पीछे पागल होता है और 
ये सिलसिला चलता ही रहता है ........ये सिलसिला देख चंद पंक्तियाँ याद आयीं ........


तू दे दे वक्त तेरी यादों को थमने का
मैं भी वक़्त दे दूं उसको समझने का 
अनजाने में खायी तुझसे ठोकर  मैंने  
पर दे दूँ वक़्त अब उसको संवरने का 

जनता हूँ महोबबत नापसंद है मेरी तुझको
फिर भी तेरी हर पसंद, पसंद है मुझको
एक मेरी जिंदगी है जो भागती है पीछे तेरे 
एक वो कहती है "जिंदगी वार दी तुझको "

मैं नीद गावाता हूँ सपनों में तेरे
वो सपने संजोती है पाने को मेरे
तू हर पल दूर भागती है मुझसे
वो तरसती है करीब आने को मेरे

होठों पे मेरे बस अल्फ़ाज़ तेरे हैं 
गमों की शाम चाहतों के सवेरे हैं
चाहते हैं हर पल बेहिसाब तुमको 
वो कहती हैं "तुम हर पल मेरे हैं"

मुस्कान तेरी खुद को गिरवी रख खरीद लाये
कश्ती न बन सके तेरी, किनारे ही बन जाए
तुम हो की नज़र चुराती हो हर पल मुझसे
वो कहती है" काश तू मेरा आईना बन जाये"