Wednesday, December 8, 2010

तेरे साथ हैं हम

तेरा जहाँ नही है सूना 
अभी तेरा जहाँ हैं हम 
तुझे मंजिल जरूर मिलेगी 
तेरी आखें क्यों हैं नम 



तुने हमें बहुत कुछ सिखाया 
तभी मंजिल प़ा सके हैं हम 
अब बारी है तेरी मंजिल की 
उसे भी हासिल कराएंगे हम


                                                                                                  

                                                                                             परिस्थिति हजार आयें जीवन में
डटे रहो जब तक है दम में दम
तेरे कठिनाई भरे जीवन में
साथ  तेरा  निभाएँगे  हम  







                                                                     रखना  होंसले अपने बुलंद
                                                                     मंजिल पा के ही लेना है दम 
                                                                     तुझे वहां तक हम  पहुंचाएंगे 
                                                                     रास्ता तेरा बनेंगे हम 

 जिन्दगी है  जैसे  एक पताका
तैरना भी है और पानी है कम 
साहिल  तो तुझे  ही बनना है 
पतवार  तेरी  बनेंगे  हम 

                                                                       गर खुदा हौंसले अजमाये
                                                                       हिम्मत पड़ने न देना कम 
                                                                      हौसले बुलंद करेंगे तेरे 
                                                                      साहस तेरा बढ़ाएंगे हम 

भावनाओं को तेरी ठेस न पहुंचे 
भरे न तेरे  दिल में और जख्म 
दर्द न तुझको होने देंगे 
बनेंगे तेरे लिए मरहम


तेरी राह में जब हो अँधेरा 
दीपक की लौ बनेंगे हम 
तुझे न मिलने देंगे कोई गम 
तेरे गम सहेंगे हम 

मैं बनके दीपक जीवन का तेरे 
यूँ ही मिटाता रहूँगा तम
हमेशा यही सोचकर चलना 
हम कसी से नही हैं कम                  --------       तेरे साथ हैं हम 

No comments:

Post a Comment